कुंडली में सरकारी नौकरी के योग

जीवन मे हम हर वर्ग में सफलता और असफलता को अपनी मेहनत , परिश्रम से जोड़ते हैं। जो कि सत्य भी है जीवन मे आपकी सफलता आपकी मेहनत के मुताबिक होती है परन्तु हर व्यक्ति की सफलता उसकी मेहनत के साथ साथ उस के लिए योग में बनता समय। हर व्यक्ति की सफलता का समय […]

कुंडली में संतान योग

जीवन मे हर शादी शुदा इंसान अपने हाथ में अपनी संतान का वह मुख देखना चाहता है जो उन्हें जिंदगी की हर खुशी का कारण बने, उन्हें माता पिता होने पर गर्व महसूस कर सकें। माता – पिता होना जिंदगी में सबसे अनमोल वक्त होता है। जब कोई आपको अपनी प्यारी सी तोतली आवाज में […]

कुंडली में विवाह योग

विवाह यानि गृहस्थ जीवन की एक नई शुरुआत। विवाहोपरांत व्यक्ति सिर्फ व्यक्ति न रहकर परिवार हो जाता है एवं सामाजिक रुप से जिम्मेदार भी। समाज में उसकी प्रतिष्ठा भी बढ़ जाती है। यह जीवन का एक ऐसा मोड़ होता है जिसके अभाव में व्यक्ति अधूरा रहता है। लेकिन विवाह हर व्यक्ति की किस्मत में नहीं […]

Janam Kundali In Hindi by Date of Birth, Time and Place.

अब आप भी अपनी Janam Kundali In hindi अपनी मात्रभाषा में प्राप्त कर सकते है। इसके लिए केवल अपनी जन्म तिथि, जन्म का समय, जन्म स्थान और ई-मेल  हमारे साथ शेयर करना होगा और इसके उपरांत आप अपनी जन्मकुंडली आपके ई-मेल पर PDF भेज दिया जायेगा। जिसका आप प्रिंट आउट निकल सकते है। Janam Kundali In […]

ज्योतिष शास्त्र : जन्म कुंडली में सूर्य के होने का प्रभाव और उपाय

ज्योतिष शास्त्र : जन्म कुंडली में सूर्य विज्ञान के अनुसार सूर्य हाइड्रोजन और हीलियम गसों का बना हुआ विशालकाय गोला है परन्तु  हिन्दू धर्म में सूर्य को भगवान् मानकर सूर्य की पूजा की जाती है| ज्योतिष विज्ञानं के अनुसार सूर्य सभी ग्रहों का स्वामी है अतः ज्योतिष शास्त्र में सूर्य का बहुत अधिक महत्व है| […]

जन्म कुंडली क्या है? जाने जन्म कुंडली से भविष्य कैसे देखते है?

जन्म कुंडली ज्योतिष शाश्त्र विज्ञानं की एक मात्र शाखा है जिसकी मदद से हम भूत और वर्तमान के अतिरिक्त भविष्य में भी होने वाली घटनाओ की सही जानकारी भी देने में सक्षम है| ज्योतिष विज्ञानं से हमें यह जानकारी जन्म कुंडली के माध्यम से मिलती है| जन्म कुंडली एक ऐसा महत्वपूर्ण प्रप्रत्र है जो वायुमंडल […]

मांगलिक दोष क्या है? इसका हमारे जीवन पर प्रभाव और उपाय क्या है?

मांगलिक दोष क्या है? ज्योतिष शाश्त्रियों द्वारा मनुष्य के जन्म के समय ग्रहों, नक्षत्रों, सूर्य और प्रथ्वी की स्थिति के अनुसार जन्म कुंडली की गणना की जाती है| जिसमे मनुष्य के जीवन में घटित होने वाली घटनाओं की आशंका व्यक्त की जाती है| इन घटनाओं की गणना कुंडली में एक विशेष प्रकार की स्थिति या […]

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top