Browsed by
Category: विविध-लेख

छठ पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा की विधि, और पूजा का महत्व और आरती

छठ पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा की विधि, और पूजा का महत्व और आरती

छठ पूजा का शुभ मुहूर्त छठ पूजा मुख्यतः बिहार, उत्तर प्रदेश और झारखण्ड में मनाया जाने वाला त्यौहार है| अंग देश के राजा कर्ण सूर्यदेव के उपासक थे| अतः उसी परंपरा के अनुसार इस व्रत में सूर्य देव की पूजा की जाती है| छठ पूजा विशेष रूप से पुत्र प्राप्ति के लिए किया जाता है|  यह व्रत चार दिवसीय पूजा का कार्यक्रम होता है| अंत में इसमें सूर्य को अर्घ्य देकर इसका समापन किया जाता है| हिन्दू पंचांग के अनुसार…

Read More Read More

धनतेरस को खरीददारी करना क्यों शुभ माना जाता है? ये है वजह

धनतेरस को खरीददारी करना क्यों शुभ माना जाता है? ये है वजह

धनतेरस क्यों मनाया जाता है? हिंदी महीने के अनुसार कार्तिक मॉस की कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाये जाने वाले इस त्यौहार को धनत्रयोदशी या धनतेरस के नाम से जाना जाता है| दीपावली से ठीक एक दिन पहले मनाया जाने वाले त्यौहार को मनाने की वजह यह है कि इसी दिन भगवान् धन्वन्तरी का जन्म हुआ था| इसी दिन पर जैन धर्म के प्रवर्तक भगवान् महावीर जी ज्ञान भी तीसरे और चौथे ध्यान के लिए योग निरोध के लिए…

Read More Read More

वास्तु शाश्त्र क्या है? इसका मानव जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है?

वास्तु शाश्त्र क्या है? इसका मानव जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है?

वास्तु शाश्त्र क्या है? मानव शरीर जिन पांच तत्वों प्रथ्वी, जल, आग्नि, आकाश और हवा से मिलकर बना होता है उन्ही की पारस्परिक क्रिया को वास्तु शाश्त्र कहते है| इसका मानव जीवन और अन्य प्राणियों पर बहुत पड़ता है| वैसे तो वास्तु शाश्त्र का शाब्दिक अर्थ निवास स्थान होता है| सामान्यतया हम सभी को मकान निर्माण के समय वास्तु का ध्यान रखना चाहिए| मकान के निर्माण के समय हमें किसी भी स्थिति में प्रकृति द्वारा रचित पंच तत्वों प्रथ्वी, जल,…

Read More Read More

मांगलिक दोष क्या है? इसका हमारे जीवन पर प्रभाव और उपाय क्या है?

मांगलिक दोष क्या है? इसका हमारे जीवन पर प्रभाव और उपाय क्या है?

मांगलिक दोष क्या है? ज्योतिष शाश्त्रियों द्वारा मनुष्य के जन्म के समय ग्रहों, नक्षत्रों, सूर्य और प्रथ्वी की स्थिति के अनुसार जन्म कुंडली की गणना की जाती है| जिसमे मनुष्य के जीवन में घटित होने वाली घटनाओं की आशंका व्यक्त की जाती है| इन घटनाओं की गणना कुंडली में एक विशेष प्रकार की स्थिति या योग को देखकर किया जाता है| इन घटनाओ को ज्योतिष शाश्त्र की भाषा में दोष कहते है|  ज्योतिष शास्त्र में अलग-अलग स्थितियों के अनुसार दोषों…

Read More Read More

दिवाली पूजा विधि की कुछ बाते जो हम अक्सर भूल जाते है|

दिवाली पूजा विधि की कुछ बाते जो हम अक्सर भूल जाते है|

दिवाली पूजा विधि कार्तिक मॉस की अमावस्या तिथि को मनाया जाने वाला हिन्दुओ का सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण त्यौहार दिवाली है| इस वर्ष 2018 में यह 7 नवम्बर 2018 दिन बुद्धवार को मनाया जायेगा| मान्यता यह है की इसी दिन भगवान श्री राम लंकाधिपति रावण का वध करके अयोध्या वापस आये थे| चूँकि अमावस्या की रात्रि बहुत ही अँधेरी होती है तो इस दिन हम सभी रात्रि में दीपक जला कर पूजा करते है क्यूंकि दिवाली की पूजा शाम में…

Read More Read More

व्यवसाय में वृद्धि के लिए हमेशा ध्यान रखें ये कुछ बातें|

व्यवसाय में वृद्धि के लिए हमेशा ध्यान रखें ये कुछ बातें|

हम सभी को जीवन निर्वाह करने के लिए हमें धनोपार्जन करना पड़ता है| जिसके लिए हमें कुछ काम जैसे कोई नौकरी, या फिर स्वयं का व्यवसाय करते है| परन्तु कभी कभी हम कुछ सामान्य बातों का ध्यान नहीं रखते है जिसकी वजह से हम अत्यधिक मेहनत करने के बावजूद भी उतना लाभ नहीं होता जितना की उससे होना चाहिए था| तो उसमे कमी कहा रह गयी? इस प्रश्न का उत्तर है वास्तु टिप्स? जी हाँ कभी-कभी हम जाने अनजाने में…

Read More Read More