Browsed by
Category: ज्योतिष

ज्योतिष शास्त्र : जन्म कुंडली में सूर्य के होने का प्रभाव और उपाय

ज्योतिष शास्त्र : जन्म कुंडली में सूर्य के होने का प्रभाव और उपाय

ज्योतिष शास्त्र : जन्म कुंडली में सूर्य विज्ञान के अनुसार सूर्य हाइड्रोजन और हीलियम गसों का बना हुआ विशालकाय गोला है परन्तु  हिन्दू धर्म में सूर्य को भगवान् मानकर सूर्य की पूजा की जाती है| ज्योतिष विज्ञानं के अनुसार सूर्य सभी ग्रहों का स्वामी है अतः ज्योतिष शास्त्र में सूर्य का बहुत अधिक महत्व है| ज्योतिष शास्त्र में जन्म कुंडली की गणना व राशिफल की गणना के लिए सूर्य के प्रभाव का अध्ययन करना बहुत आवश्यक है| तो आइये देखते है की…

Read More Read More

जन्म कुंडली क्या है? जाने जन्म कुंडली से भविष्य कैसे देखते है?

जन्म कुंडली क्या है? जाने जन्म कुंडली से भविष्य कैसे देखते है?

जन्म कुंडली ज्योतिष शाश्त्र विज्ञानं की एक मात्र शाखा है जिसकी मदद से हम भूत और वर्तमान के अतिरिक्त भविष्य में भी होने वाली घटनाओ की सही जानकारी भी देने में सक्षम है| ज्योतिष विज्ञानं से हमें यह जानकारी जन्म कुंडली के माध्यम से मिलती है| जन्म कुंडली एक ऐसा महत्वपूर्ण प्रप्रत्र है जो वायुमंडल के सभी ग्रहों के स्थिति और मनुष्य के जीवन के विभिन्न भागों को सम्बंधित करता है| उन ग्रहों की वर्तमान स्थिति को देखकर भविष्य में…

Read More Read More

राशिफल क्या है? राशियाँ कैसे हमारें जीवन से सम्बंधित होती है?

राशिफल क्या है? राशियाँ कैसे हमारें जीवन से सम्बंधित होती है?

राशिफल क्या होता है? ज्योतिष विज्ञान के अनुसार जातक के जन्म के समय सूर्य, चन्द्रमा, प्रथ्वी, ग्रहों और नक्षत्रों की स्थिति को ध्यान में रखते हुए उनकी चाल के अनुसार पुरे जीवन चक्र में होने वाली समस्त छोटी बड़ी घटनाओं की भविष्यवाणी राशि फल कहलाता है|अधिकतर भारतीय ज्योतिष शाश्त्री जातक के जन्म के समय चन्द्रमा की स्थिति को केंद्र मानकर उसके अनुसार अन्य ग्रहों की चाल के अनुसार राशिफल की गणना करते है| अतः उसे चन्द्रकला राशि फल या भारतीय…

Read More Read More