धनतेरस

धनतेरस पर करें दीपदान दूर होगा अकाल मृत्यु का भय

मृत्यु का भय संसार में सबसे बड़ा भय माना जाता है। हालांकि यह एक सत्य है कि जिसने जन्म लिया है उसकी मृत्यु भी निश्चित है अटल है। लेकिन बहुत सारी मौतें अकाल ही हो जाती हैं। कुछ मामलों में तो किसी के चले जाने का मलाल इतना होता है कि ताउम्र उसकी कमी खलती है और टीस उठती रहती है कि हे भगवान अभी क्या उसका समय पूरा हो गया था। ये अकाल मृत्यु क्यों उसके भाग्य में लिखी थी। खैर यहां मृत्यु का जिक्र करके हमारा उद्देश्य आपको भयभीत करने का नहीं है बल्कि हम बताने जा रहे हैं वो उपाय जिसके करने से अकाल मृत्यु से आप बच सकते हैं।

दरअसल धन तेरस के दिन भगवान धन्वंतरि की पूजा तो की जाती है क्योंकि वे देवताओं को अमृत का पान कराकर उन्हें अमरता प्रदान करने के लिये प्रकट हुए थे। आयुर्वेद का जनक भी उन्हीं को माना जाता है। धन्वंतरि, कुबेर और मां लक्ष्मी की पूजा जीवन में सुख-समृद्धि तो प्रदान करती है लेकिन इस दिन मृत्यु के देवता यम की पूजा करने का भी विधान है।

धनतेरस पर यमदेवता के लिये दीपदान

मृत्यु के देवता यम की दिशा दक्षिण मानी जाती है। धनतेरस के सांयकाल एक दिशा दक्षिण दिशा की तरफ मुंह करके जलायें और इसे यम देवता को समर्पित करें। तत्पश्चात दिये को अन्न की ढ़ेरी पर घर की दहलीज पर रख देना चाहिये। ऐसा करने से अकाल मृत्यु का भय टल जाता है।

धनतेरस की पौराणिक कथा

धनतेरस पर यमदीप क्यों जलाया जाता है इस बारे में एक पौराणिक कथा भी प्रचलित है। बहुत समय पहले की बात है कि एक हंसराज नामक राजा हुआ करते थे। एक बार राजा अपनी मंडली के साथ वन में शिकार के लिये गये हुए थे कि वह जंगल में भटक जाते हैं और अपने सैनिकों, मित्रों आदि पूरी मंडली से बिछुड़ जाते हैं। चलते-चलते राजा हंसराज एक दूसरे राजा हेमराज के राज्य में पहुंच जाते हैं। थके हारे हंसराज की वह खूब आवभगत करते हैं। तभी राजा हेमराज को पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है। अब वह हंसराज से भी राजकीय समारोह तक रुकने का आग्रह करते हैं। छठी के दिन ज्योतिषाचार्य बालक के भविष्य को देखते हैं तो हैरान रह जाते हैं। वह राजा हंसराज से कहते हैं कि यह बालक बहुत तेजस्वी बनेगा लेकिन एक विपदा इस पर युवावस्था में आयेगी। जैसे ही इस बालक का विवाह होगा उसके चौथे ही दिन इसकी मृत्यु हो जायेगी। राजा हेमराज पर तो मानो दुखों का पहाड़ टूट पड़ा हो। हंसराज उन्हें व उनके परिवार को धीरज बंधाते हैं और उन्हें आश्वस्त करते हैं कि इसका लालन-पालन मैं करूंगा देखता हूं कौन इसका बाल बांका करता है। इस तरह हंसराज एक भूमिगत महल बनवाकर, चाक चौबंध व्यवस्था कर उसका लालन-पालन करते हैं देखते ही देखते वह बालक से युवराज भी हुआ। उसकी तेजस्विता का चर्चे दूर तक फैलने लगे। ऐसे ही तेज वाली एक राजकुमारी से उसका विवाह भी कर दिया जाता है। अब होनी को कौन टाल सकता है। विवाह के चौथे दिन यमदूत वहां आन खड़े हुए। नवविवाहित इस राजकीय जोड़े की खुबसूरती को देखकर एक बार तो यम के दूत भी उन्हें निहारते ही रह गये। बहुत ही अनमने मन से उन्होंने अपने कर्तव्य का पालन किया और राजकुमार के प्राण हर लिये। वहां का दारूण दृश्य उनसे देखा नहीं गया।

कुछ दिन पश्चात यमराज ने अपनी सभा बुलाई और यमदूतों से ऐसे ही प्रश्न किया कि क्या आप में से कभी भी किसी को किसी के प्राण हरते समय कभी दया आई या कोई ऐसा दृश्य आपने देखा हो जिसके बाद आपको लगा हो के इसके प्राण मुझे नहीं हरने चाहिये। अब यमदूतों को पक्का शक हो गया कि वे राजकुमार के प्राण हरने में हिचके थे इसलिये यमराज कर्तव्य में कोताही के लिये उन्हें सजा देने वाले हैं। उसके बाद यमराज भी दूतों के मन के भाव कुछ-कुछ भांप गये। उन्होंनें दूतों को और कुरेदा और आश्वस्त किया कि घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है खुलकर अपनी बात कहो। तत्पश्चात दूतों की सांस में सांस आई और उन्होंनें यमराज को राजकुमार के प्राण हरने का पूरा वृतांत और दारुण दृश्य बता डाला। यमदूतों से यह वृतांत सुनने मात्र से ही स्वयं यमराज भी द्रवित हो गये।
अब यमराज बोले मेरे प्रिय दूतो हम सभी अपने कर्तव्य से बंधे हुए हैं। मृत्यु अटल है और उसे टाला नहीं जा सकता। लेकिन भविष्य में यदि कोई कार्तिक कृष्ण पक्ष की तेरस को उपवास रखकर यमुना में स्नान कर धन्वंतरि और यम का पूजन करे तो अकाल मृत्यु से उसका बचाव हो सकता है। इसके बाद से ही धनतेरस पर यम देवता के नाम से भी दीप जलाने की परंपरा है।

धनतेरस की अन्य पौराणिक कथा के अनुसार एक बार यमराज ने अपने दूतों से प्रश्न किया- क्या प्राणियों के प्राण हरते समय तुम्हें किसी पर दया भी आती है? यमदूत संकोच में पड़कर बोले- नहीं महाराज! हम तो आपकी आज्ञा का पालन करते हैं। हमें दया-भाव से क्या प्रयोजन?

यमराज ने सोचा कि शायद ये संकोचवश ऐसा कह रहे हैं। अतः उन्हें निर्भय करते हुए वे बोले- संकोच मत करो। यदि कभी कहीं तुम्हारा मन पसीजा हो तो निडर होकर कहो। तब यमदूतों ने डरते-डरते बताया- सचमुच! एक ऐसी ही घटना घटी थी महाराज, जब हमारा हृदय कांप उठा था।
ऐसी क्या घटना घटी थी? -उत्सुकतावश यमराज ने पूछा। दूतों ने कहा- महाराज! हंस नाम का राजा एक दिन शिकार के लिए गया। वह जंगल में अपने साथियों से बिछड़कर भटक गया और दूसरे राज्य की सीमा में चला गया। फिर वहां के राजा हेमा ने राजा हंस का बड़ा सत्कार किया।

उसी दिन राजा हेमा की पत्नी ने एक पुत्र को जन्म दिया था। ज्योतिषियों ने नक्षत्र गणना करके बताया कि यह बालक विवाह के चार दिन बाद मर जाएगा। राजा के आदेश से उस बालक को यमुना के तट पर एक गुहा में ब्रह्मचारी के रूप में रखा गया। उस तक स्त्रियों की छाया भी न पहुंचने दी गई। किन्तु विधि का विधान तो अडिग होता है।

समय बीतता रहा। संयोग से एक दिन राजा हंस की युवा बेटी यमुना के तट पर निकल गई और उसने उस ब्रह्मचारी बालक से गंधर्व विवाह कर लिया। चौथा दिन आया और राजकुंवर मृत्यु को प्राप्त हुआ। उस नवपरिणीता का करुण विलाप सुनकर हमारा हृदय कांप गया। ऐसी सुंदर जोड़ी हमने कभी नहीं देखी थी। वे कामदेव तथा रति से भी कम नहीं थे। उस युवक को कालग्रस्त करते समय हमारे भी अश्रु नहीं थम पाए थे।

यमराज ने द्रवित होकर कहा- क्या किया जाए? विधि के विधान की मर्यादा हेतु हमें ऐसा अप्रिय कार्य करना पड़ा। महाराज! -एकाएक एक दूत ने पूछा- क्या अकाल मृत्यु से बचने का कोई उपाय नहीं है?

यमराज ने अकाल मृत्यु से बचने का उपाय बताते हुए कहा – धनतेरस के पूजन एवं दीपदान को विधिपूर्वक करने से अकाल मृत्यु से छुटकारा मिलता है। जिस घर में यह पूजन होता है, वहां अकाल मृत्यु का भय पास भी नहीं फटकता।

इसी घटना से धनतेरस के दिन भगवान धनवन्तरि पूजन सहित दीपदान की प्रथा का प्रचलन शुरू हुआ।

Posts created 39

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top