चन्द्र ग्रहण का सभी राशियों पर प्रभाव 5 जून 2020

शेयर करें
चन्द्र ग्रहण का सभी राशियों पर प्रभाव 5 जून 2020

इस बार जून और जुलाई माह में तीन बार ग्रहण योग बन रहा है। ग्रहण अंतरिक्ष की एक प्राकृतिक घटना है। जिसका प्रभाव सभी जीव-जंतुओं पर पड़ता है। ग्रहण के माध्यम से प्रकृति मनुष्य को सही दिशा में आगे बढ़ने की प्रेरणा देती हैं। प्रकृति में परिवर्तन, सृजन और विनाश एक महत्वपूर्ण घटना है। जिसका घटित होना प्रकृति में संतुलन बनाए रखने के लिए बेहद जरूरी है। मनुष्य स्वभाव से यथास्थिति वादी होता है। किसी भी प्रकार के परिवर्तन में खुद को असहज महसूस करता है। इसीलिए ग्रहण काल में घटित होने वाली घटनाएं मानव को असहज कर देती हैं। परंतु विद्वान लोग मानते हैं कि परिवर्तनों को स्वीकार कर लेने से आत्मिक उन्नयन हीं होता है

 5 जून 2020 को आंशिक चंद्र ग्रहण लगेगा। जिसका काम या ज्यादा प्रभाव हम सभी प्राणियों पर पड़ेगा। आइए जानते हैं कि किस राशि के ऊपर किस प्रकार का प्रभाव होने वाला है।

यहां पर हम सूर्य राशि के आधार पर प्रभावों का अध्ययन करेंगे। सूर्य राशि के निर्धारण के लिए जन्म की तिथि को आधार बनाया जाता है। यह अध्ययन चंद्र राशि वालों पर भी सामान रूप से पड़ेगा। परंतु चंद्र राशि का निर्धारण जन्म कुंडली के आधार पर ही संभव है। इसलिए हम यहां सूर्य राशि के आधार पर फल कथन प्रस्तुत कर रहे हैं।

मेष राशि (21 मार्च से 19 अप्रैल) के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव मेष राशि के सभी लोगों पर मिश्रित फल दायक है। मेष राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 1 अप्रैल से 10 अप्रैल के मध्य होगा। इस दौरान आप को अपने अभिव्यक्ति कौशल की समीक्षा करनी पड़ेगी। प्रकृति आपको संवाद के तरीकों को निखारने के लिए प्रेरित कर रही है। प्रकृति के संकेतों और संदेशों को अपने अंतर्मन से सुनने का प्रयास करें। अपने स्थापित विचारों को बदली हुई परिस्थितियों के अनुरूप समावेशित करें। एक अच्छा श्रोता ही अच्छा वक्ता बन सकता है। इसलिए दूसरों की बात को भी महत्व देने की आवश्यकता है। अपने भाइयों और बहनों के साथ अगर विवाद की स्थिति उत्पन्न हो रही है, तो उसे अतिशीघ्र सुलझाने का प्रयास करें। विवाद का कारण इस दौरान संवाद की गलतफमियां हो सकती हैं।

    शिक्षा और रोजगार के अवसर मिलेंगे। जिसका लाभ लेने के लिए अतिरिक्त श्रम की जरूरत पड़ेगी। स्वास्थ्य के विषय में इस समय पैर, घुटना, कान, नेत्र और कंधा आदि से संबंधित तकलीफ हो सकती हैं। जिसके उपचार हेतु खानपान, व्यायाम, योगासन आदि के माध्यम से स्वास्थ्य लाभ की संभावना ज्यादा है।

प्यार और रोमांस आदि के संबंध में आपको दीर्घकालिक लक्ष्यों को प्राथमिकता देनी है। रोमांस और प्रतिष्ठा दोनों के बीच में एक स्वास्थ्यवर्धक संतुलन बनाए रखें। किसी सुखद इच्छा के प्रति अपनी बेचैनी और आवेश को नियंत्रण में रखें।

गर्भवती महिलाओं को चंद्रग्रहण के संदर्भ में अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना है। खानपान आदि में अनुशासन का ध्यान रखें। और अपने शरीर में जल की मात्रा का संतुलन बनाए रखें।

वृषभ (20 अप्रैल- 20 मई) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

वृषभ राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 1 मई से 10 मई के मध्य होगा। इस दौरान आप को अपने आय और व्यय के बीच है संतुलन बनाने पर ध्यान देना है। अपने सुविधा क्षेत्र (comfort zone) और दूसरों के प्रति अपने दायित्व के बीच अंतर्विरोध हो सकता है। आप इस समय अपने घर में आराम करने के मूड में है। परंतु जिम्मेदारियां आपके सुविधा क्षेत्र को भंग करने का प्रयास करेंगी। इन जिम्मेदारियों अथवा देनदारियों को पूरा किए बगैर आप खुद को सहज नहीं रख पाएंगे। इसमें आर्थिक लेनदेन जैसे विषय भी महत्वपूर्ण है।

उच्च स्तरीय मित्रों के साथ वैचारिक क्लेश की स्थिति भी उत्पन्न हो सकती हैं। प्रकृति आपको सुख और वासना पर नियंत्रण रखने की अपेक्षा करेगी। कुछ रिश्ते जो धूमिल पड़ चुके हैं उनके पुनः सक्रिय होने की संभावना है। ऐसी स्थितियों से निपटने के लिए आपका दृष्टिकोण ना तटस्थ होना चाहिए। और आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि यह समय एक दिन गुजर जाएगा। और आपको अपने व्यक्तित्व के विकास के दीर्घकालिक लक्ष्य पर पुनः लोटना होगा।

कुल मिलाकर इस ग्रहण का एक प्रबल संदेश यह है कि खुद पर विश्वास और निर्भरता बढ़ाई जाए। आर्थिक और भावनात्मक रूप से आत्मनिर्भर बनाना इस ग्रहण का संदेश है।

इस संदेश के ऊपर काम करने से अच्छे परिणाम मिलेंगे। और 20 जून 2020 को लगने वाले सूर्य ग्रहण के दिन से आप शांति का अनुभव करेंगे।

मिथुन ( 21 मई – 20 जून) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

मिथुन राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 1 जून से 10 जून के मध्य होगा। फिर भी आंशिक रूप से सभी जाति प्रभावित होंगे। इस दौरान आपको अपनी पहचान और सामाजिक छवि को स्थापित करने के लिए प्रकृति प्रेरित करेगी। कार्य व्यापार में साझेदारी और स्थापित रिश्तो के आईने से आप अपनी छवि को देखेंगे। यह चंद्र ग्रहण आपके व्यापारिक साझेदारी, संयुक्त उद्यम, और बेहद करीबी रिश्तों के ऊपर प्रकाश डालेगा। इन सभी रिश्तो में आपकी स्थिति क्या है? आप कहां खड़े हैं? क्या आपको अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए कुछ बदलाव करने की जरूरत है?

इस परिपेक्ष में सब कुछ एक दिन में करने का प्रयास ना करें। धैर्य का परिचय दें। संयम के साथ आगे बढ़े। जैसे रास्ते में तीखे मोड़ पर अपनी गति कम करनी पड़ती है वैसे ही आपको व्यावहारिक जीवन में भी करना है।

इस चंद्र ग्रहण के बाद का समय आपको अपने व्यक्तित्व के विकास पर केंद्रित करेगा। रिश्तो के ऊपर निर्भरता किस तरीके से आप की छवि को प्रभावित कर रही है? यह स्पष्ट दिखाई देगा।

आपको अपना गुरु सोंग बनना पड़ेगा। गुरु स्वतंत्रता सिखाता है। और आपको अपने अस्तित्व की स्वतंत्रता के मार्ग तलाशने होंगे। इसके लिए आप motivation stories का सहारा ले सकते हैं।

कर्क (21जून-22 जुलाई) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

कर्क राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 30 जून से 10 जुलाई के मध्य होगा। इस चंद्र ग्रहण के दौरान लगने वाली पूर्णिमा यह संकेत कर रही है क्या कि जीवन में कुछ है जो पूर्ण हो चुका है। और अब एक नई शुरुआत की जरूरत है। पुरानी चीजों को छोड़ना जब हम सीख जाते हैं, तो जीवन में नई चीजों के प्रवेश के मार्ग खुलते हैं। परंतु मानव मन के लिए तकलीफ दे यह बात होती है कि वह पुरानी चीजों से है खुद को संयुक्त कर लेता है। और फिर उनसे अलग होना मन के लिए कष्ट कारक हो जाता है। पर मन की मुक्ति का मार्ग ही यही है कि हम व्यक्तियों, वस्तुओं या परिस्थितियों से खुद को मुक्त करें। जो वस्तुओं व्यक्ति या स्थिति अब हमारे जीवन में उपयोगी नहीं रह गई है उसे त्यागने की कला सीखनी चाहिए। इसका मतलब यह नहीं है कि हम रिश्तो को तोड़ दें। पुराने रिश्ते को नई स्थितियों के साथ भी हम स्वीकार कर सकते हैं। जब हम खुद को स्वतंत्र करते हैं तो हम नई ऊर्जा से अपना पोषण करते हैं। और एक स्वास्थ्य मन ही अन्य रिश्तो को पोषण प्रदान कर सकता है।

नौकरी पेशा में लगे हुए लोगों को उच्च अधिकारी यह एहसास दिलाएंगे कि आपसे कुछ गलती हुई है। परंतु आप के संदर्भ में ऐसा नहीं है। आप जिस भी संस्था से संबंधित हैं उस संस्था और संगठन की आंतरिक स्थिति स्थिर नहीं है। आपके पास इस समय महत्वपूर्ण सूचनाओं और जानकारियों का अभाव है। इसलिए धैर्य रखें और अधिक से अधिक के सूचनाएं इकट्ठा होने तक कोई महत्वपूर्ण निर्णय ना लें

सिंह (23 जुलाई-22 सितंबर) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

सिंह राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 1 अगस्त से 11 अगस्त के मध्य होगा। इस चंद्र ग्रहण के दौरान आपकी रचनात्मक कौशल का क्षेत्र, संतान की प्रगति, प्रेम संबंधों मैं आपका पक्ष और आप से संबंधित समूह और संगठन सभी प्रभावित होंगे। इसके साथ ही आपको अपनी आय और व्यय पर पैनी नजर रखनी है। इस दौरान खर्चे अप्रत्याशित होंगे जिससे आपका वित्तीय संतुलन बिगड़ेगा। साथ ही कुछ रुका हुआ धन भी मिलेगा और आर्थिक मदद भी मिलेगी। टैक्स और बीमा के प्रीमियम आदि के भुगतान को पहले से अपनी योजना में शामिल कर ले।

प्रेम संबंधों में आपको कुछ ऐसे निर्णय ले लेने पड़ सकते हैं जो आपकी इच्छा के विपरीत हो। परंतु यदि वह सभी के भलाई के लिए हैं तो उन्हें शहर से स्वीकार करें। संतान की प्रगति के विषय में आपकी योजनाएं जो भी हैं उस पर बहुत दृढ़ रहे। नई परिस्थितियों के साथ अपनी योजनाओं को नया रूप दे। नौकरी या कार्यक्षेत्र में संभव है कि आपको संगठन या समूह की बात माननी पड़े। इसी में सभी की प्रगति है आपकी योजनाएं, रचनाएं तभी धरातल पर आएंगी जब संगठन या समूह बचा रहेगा।

कन्या (23 सितंबर-22 अक्टूबर) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

कन्या राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 2 सितंबर से 13 सितंबर के मध्य होगा। इस चंद्र ग्रहण के बाद अभी दो और ग्रहण लगने बाकी है।

आपकी स्थिति मजबूत है और थोड़े बहुत उतार-चढ़ाव को झेलने के लिए सक्षम है। इस चंद्र ग्रहण के दौरान आपको कार्यक्षेत्र और परिवार के बीच संतुलन बनाने की जरूरत है। कार्यक्षेत्र की स्थितियां आपको पारिवारिक जिम्मेदारियां निभाने का समय नहीं देंगी। यदि आप अपनी संतान के लिए चिंतित हैं तो भाग्य बल आपके साथ हैं। आपकी संतति की आवश्यकताएं बृहस्पति ग्रह की मदद से पूरी हो जाएंगी।

आपको माता पिता से अपेक्षित सहयोग मिलने में कठिनाई महसूस होगी। साथ ही जीवन साथी के प्रति जिम्मेदारियों को पूरा कर पाने में आप खुद को अशक्त महसूस करेंगे। परंतु यह सभी स्थितियां क्षणिक होंगी। और जल्दी ही रिश्तेदारों के सहयोग से आप इन स्थितियों को सही से संभाल लेंगे।

तुला (23 सितंबर-22 अक्टूबर) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

तुला राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 3 अक्टूबर से 14 अक्टूबर के मध्य होगा। जीवन में आगे बढ़ने के लिए आपको व्यवस्था को महत्व देना है। व्यवस्था ऐसी जिसमें किसी कार्य को सुगम बनाया जा सके। जैसे यदि आपने अपने वाहन की समय पर जांच कराई है। जैसे यदि आपकी कार बाइक आदि व्यवस्थित है तो अचानक यात्रा की स्थिति बनने पर आपका काम सफल होगा। आपके घर में रखी हुई वस्तुएं यदि व्यवस्थित हैं तो आपकी दिनचर्या सरल होगी। आपके जरूरी कागजात यदि यथा स्थान रखे हैं को आवश्यकता पड़ने पर आप परेशान नहीं होंगे।

आपके सहकर्मी अधीनस्थ कर्मचारी नौकर आदि से आपको परेशानी उत्पन्न हो सकती है। इसलिए इनके ऊपर ज्यादा निर्भरता इस समय ठीक नहीं रहेगी।

किसी दीर्घ प्रतीक्षित यात्रा को अंतिम रूप देने में सफलता से राहत मिलेगी। साथ ही किसी महत्वपूर्ण समझौते या अनुबंध को पूरा होने से भी प्रशन्नता प्राप्त होगी।

भाई बहनों के साथ वाद विवाद से बचने का प्रयास करेंगे।

वृश्चिक (23 अक्टूबर-21 नवंबर) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

वृश्चिक राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 2 नवंबर से 12 नवंबर के मध्य होगा। इस ग्रहण के प्रभाव में आपका व्यापार, आय, व्यय, प्रेम प्रसंग और संवाद संचार के क्षेत्र उद्दीप्त होंगे। व्यापारिक लेन-देन में आए हुए की स्पष्टता आपको परेशान कर सकती है। वित्तीय सूचनाओं के आदान-प्रदान में भ्रम की स्थिति बन सकती है। महत्वपूर्ण कागजात को संभाल कर रखें। प्रॉपर्टी की खरीद-फरोख्त स्थगित रखें। संभव है की कुछ सूचनाएं आपसे छुपाई गई हों। लेनदारी और देनदारी में गणना करते समय कुछ गणकों के छुटने की संभावना है।

प्रेम प्रसंग में गलतफमियों से बचें। कुछ ऐसा ना करें जिससे गलतफमियां उतपन्न हों। भले ही आपकी नियत साफ हो।

संवाद के मार्ग या शब्दों के चयन में अपनी तरफ से सावधानी बरतते। और सामने वाले के शब्दों को व्यापक दृष्टिकोण से देखें।

धनु (22 नवम्बर-21 दिसम्बर) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

धनु राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 2 दिसंबर से 12 दिसंबर के मध्य होगा। इस दौरान आपकी प्रतिभा और दक्षता में वृद्धि होगी। अपने बौद्धिक कौशल से अपने आसपास के लोगों को सहयोग प्रदान करेंगे। इस प्रक्रिया में आपकी पहचान सकारात्मक रूप से ऊपर उठेगी। आप के जीवन का दीर्घकालिक लक्ष्य में स्पष्टता आयेगी। इन सब के परिणाम स्वरूप आप उन् रिश्तो को अब विराम देना चाहेंगे जिन् रिश्तों से आपको बाधा पहुंच रही है।

शुरू में आप भावनात्मक रूप से काफी संवेदनशील हो सकते हैं। तत्पश्चात आप अपनी स्थिति को दृढ़ता से स्वीकार कर लेंगे। घर परिवार में क्लेश की स्थिति बनेगी जिसे आप बौद्धिक समझ से दूर करेंगे। समस्या का कारण लोगों का खुलकर बात ना करना हो सकता है। आपके बीच बचाव से शांति का मार्ग बनेगा। घर में पानी की व्यवस्था को दुरुस्त कर लें। कहीं तकनीकी खराबी हो सकती है।

मकर (22 दिसंबर-19 जनवरी) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

मकर राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 1 जनवरी से 11 जनवरी के मध्य होगा। इस चंद्र ग्रहण के प्रभाव में आपको अगले एक दो महीने तक अपके शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्वास्थ्य का विशेष महत्त्व समझ में आएगा। दैनिक क्रियाकलाप और शारीरिक मानसिक शांति के बीच संतुलन स्थापित करने की जरूरत है। कार्य अधिकता के बीच आपको यह एहसास होगा कि कुछ समय एकांत के लिए निकालना भी जरूरी है। योग और ध्यान करने से प्राप्त उर्जा का प्रयोग दैनिक क्रियाकलाप में भी होता है। यदि मन में शांति और उत्साह नहीं है तो दैनिक जीवन के काम को पूरा करने में आलस्य आता है।

अपने बेडरूम को व्यवस्थित करें। और गहरी नींद लेने का प्रयास करें। सोने से पहले थोड़ी देर तक ध्यान करने से लाभ होगा। नींद में आने वाले सपनों के माध्यम से आपकी अंतरात्मा कुछ संदेश देना चाहेंगे। नींद से उठने के बाद अपने सपनों को लिख लें।

आपका स्वास्थ्य के हीलिंग प्रक्रिया से गुजरेगा। जिसमें थोड़ा समय लगेगा। भाई बहन और पड़ोसियों के साथ संचार संवाद में संतुलन बनाए रखें।

कुंभ (20 जनवरी-18 फरवरी) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

कुंभ राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 1 फरवरी से 10 फरवरी के मध्य होगा। इस चंद्रग्रहण के कारण अगले महीने तक आपके संतान की आश्यकताओं, मित्रों की अपेक्षाओं आपके वित्तीय संसाधनों और समय की उपलब्धता आदि प्रभावित होंगे। प्रेम प्रसंगों में धन की कमी कामा स्वास्थ्य और समय की उपलब्धता से कमजोर स्थितियां उत्पन्न होंगी। जो आपको कुछ भी ठीक ढंग से करने में बाधक बनेगी।

इस चंद्र ग्रहण के प्रभाव में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण यह है कि आप अपनी आर्थिक स्थिति को दुरुस्त करें। साथ ही शारीरिक ऊर्जा की कमी को दूर करने के लिए कुछ पल आराम करें। अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने के लिए भी समय निकाल ले। मित्रों की तरफ से आर्थिक सहायता की मांग हो सकती है। अभी आर्थिक लेनदेन करना सुरक्षित नहीं रहेगा। इस समय किए गए खर्चे हितकारी नहीं होंगे।

रिश्तेदारों और मित्रों के ऊपर खर्च करने से बेहतर है कि आप अपनी संतान के ऊपर खर्च करें। साथ ही जिनको गहरे मन से प्यार करते हैं उनकी जरूरतों को पूरा पहले करें।

सबसे ज्यादा समय और ऊर्जा अपने स्वास्थ्य और आराम पर खर्च करें। उसके बाद अन्य प्राथमिकताओं को तय करें। एक साथ बहुत सारे काम हाथ में लेने पर कुछ भी ठीक ढंग से पूरा नहीं कर पाएंगे। घर में दैनिक उपकरणों जैसे बिजली पानी आदि के उपकरणों को समय-समय पर चेक करते रहें। किसी गड़बड़ी की आशंका है।

मीन (19 फरवरी-20 मार्च) राशि के लोगों पर 5 जून 2020 को लगने वाले चन्द्र ग्रहण का प्रभाव

मीन राशि के अंतर्गत सबसे ज्यादा प्रभाव उन लोगों पर पड़ेगा जिनका जन्म किसी भी वर्ष के 2 मार्च से 12 मार्च के मध्य होगा। इस चंद्र ग्रहण के प्रभाव से अगले 2 महीने तक आपके पारिवारिक जीवन और कार्य क्षेत्र के बीच में असंतुलन पैदा हो सकता है। बहुत सारे कार्य है जो आपको अभी अपने व्यक्तिगत स्तर पर ही पूरा करना होगा। पर्दे के पीछे रहकर काम करना अभी के लिए जरूरी है। जिस परियोजना पर काम कर रहे हैं उस एकांत में रहकर अंतिम रूप देने का प्रयास करें। अपने कार्य को समय पर पूरा कर पाने में अभी आपको संदेह है। जो की परिस्थितियों के अनुरूप स्वाभाविक भी है। परिवार में किसी सदस्य विशेषकर माता के स्वास्थ्य की देखभाल को प्राथमिकता में रखें। इसके साथ है ही कार्यक्षेत्र और सामाजिक जिम्मेदारियों को भी निभाते रहें। व्यक्तिगत परियोजना परिवार और सामाजिक क्षेत्र तीनों के बीच में बेहतर संतुलन स्थापित करने में आप दक्ष है। आने वाले समय में आपको अपने पत्नी और संतान के स्वास्थ्य के ऊपर भी समय देना है। समय के प्रबंधन में इन सभी बातों का समावेश करने में आप सफल रहेंगे।

शेयर करें

Share and Enjoy !

0Shares
0 0 0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top