कुंभ मेला

कुंभ (Kumbh) क्या है? इसकी शुरुआत कैसे हुई?

शेयर करें

भारत विश्व का दूसरा सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला देश है। आप यह सोच रहे होंगे कि यह मैं क्यों लिख रहा हूँ यह तो सभी को ज्ञात है तो इसका जवाब है कि भारत में जन्मे प्रत्येक व्यक्ति चाहे वह हिन्दू धर्म से तालुक्कत रखता हो या नहीं परन्तु वह कुंभ मेला (Kumbh Mela) के बारे में थोड़ी बहुत जानकारी रखता ही है। हालांकि यह अधूरी जानकारी का श्रेय भारतीय फिल्म को जाता है जिन्होंने यह दिखाने में कोई कमी नहीं छोड़ी की कुंभ मेला में आप परिवार के सदस्यों से बिछुड़ जाते हैं या यूं कहें कि सब अव्यवस्थित रहता है।

इतिहास के ग्रन्थों मे भले ही कोई प्रामाणिक जानकारी उपलब्ध न हो परन्तु इस देश की धर्म प्राण जनता के हृदय पटल पर इसकी छवि इतनी गहराई से अंकित है कि सदियों से इस पर्व पर एकत्रित होने के लिए किसी निमंत्रण की आवश्यकता नहीं पड़ती और लोग अपने आप लाखों और करोड़ों की संख्‍या में कुंभ मेला पर्व पर प्रयाग में संगम तट पर एकत्रित हो जाते हैं।

धनतेरस पर करें दीपदान दूर होगा अकाल मृत्यु का भय

धन तेरस के दिन भगवान धन्वंतरि की पूजा तो की जाती है क्योंकि वे देवताओं को अमृत का पान कराकर उन्हें अमरता प्रदान करने के लिये प्रकट हुए थे।

इस पर्व पर हिमालय और कन्याकुमारी की दूरी सिमट जाती है। तथा अरुणाचल प्रदेश और कच्छ एक-दूसरे के पास आ जाते हैं। इस पर्व का आकर्षण ऐसा है कि दूर से और पास से गांव से और नगरों से झोपड़ियों से और महलों से लोग कुंभ नगरी मे सिमटते आ रहे हैं। इनकी भाषा वेश रंग-ढंग सभी एक दूसरे से भिन्न है परन्तु इनका लक्ष्य एक है। सभी की मंजिल एक है।

इनमें पुरुष भी है और स्त्रियां भी बच्चे भी है और गृहस्थ भी धनवान भी है और धनहीन भी परन्तु सभी मे एक भावना और एक सांस्कृतिक समरसता के दर्शन होते हैं। हमारे देश की एकता की इसकी अनेकता के बीच। एकरसता के इस महान संगम को आदि शंकराचार्य ने एक ऐसा सुगठित रूप प्रदान किया जो पिछले हजारों वर्षों से इस देश को उत्तर से दक्षिण तक और पूरब से पश्चिम तक एक मजबूत एकता के सूत्र में जकड़े हुए है।

कुंभ कई करोड़ हिन्दू का तीर्थ स्थल है एक ऐसा अद्धभुत पर्व जिसे व्यक्ति अंतरिक्ष से भी देख सके। कुंभ पर्व हिंदू धर्म का एक महत्वपूर्ण पर्व है, जिसमें करोड़ों श्रद्धालु कुंभ पर्व स्थल हरिद्वार, प्रयाग, उज्जैन और नासिक में स्नान करते हैं। इनमें से प्रत्येक स्थान पर प्रति बारहवें वर्ष और प्रयाग में दो कुंभ पर्वों के बीच छह वर्ष के अंतराल में अर्धकुंभ भी होता है। २०१३ का कुम्भ प्रयाग में हुआ था। फिर २०१९ में प्रयाग में अर्धकुंभ मेले का आयोजन हुआ था।

खगोल गणनाओं के अनुसार यह मेला मकर संक्रांति के दिन प्रारम्भ होता है, जब सूर्य और चन्द्रमा, वृश्चिक राशि में और वृहस्पति, मेष राशि में प्रवेश करते हैं। मकर संक्रांति के होने वाले इस योग को “कुम्भ स्नान-योग” कहते हैं और इस दिन को विशेष मंगलकारी माना जाता है, क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इस दिन पृथ्वी से उच्च लोकों के द्वार इस दिन खुलते हैं और इस प्रकार इस दिन स्नान करने से आत्मा को उच्च लोकों की प्राप्ति सहजता से हो जाती है। यहाँ स्नान करना साक्षात् स्वर्ग दर्शन माना जाता है। इसका हिन्दू धर्म मे बहुत ज्यदा महत्व है।

कुंभ मेला से सम्बंधित पौराणिक कथाएं(कुंभ यही से शुरुआत हुआ)

कुंभ मेला के आयोजन को लेकर दो-तीन पौराणिक कथाएँ प्रचलित हैं जिनमें से सर्वाधिक मान्य कथा देव-दानवों द्वारा समुद्र मंथन से प्राप्त अमृत कुंभ से अमृत बूँदें गिरने को लेकर है। इस कथा के अनुसार महर्षि दुर्वासा के शाप के कारण जब इंद्र और अन्य देवता कमजोर हो गए तो दैत्यों ने देवताओं पर आक्रमण कर उन्हें परास्त कर दिया। तब सब देवता मिलकर भगवान विष्णु के पास गए और उन्हे सारा वृतान्त सुनाया। तब भगवान विष्णु ने उन्हे दैत्यों के साथ मिलकर क्षीरसागर का मंथन करके अमृत निकालने की सलाह दी। भगवान विष्णु के ऐसा कहने पर संपूर्ण देवता दैत्यों के साथ संधि करके अमृत निकालने के यत्न में लग गए। अमृत कुंभ के निकलते ही देवताओं के इशारे से इन्द्रपुत्र जयन्त अमृत-कलश को लेकर आकाश में उड़ गया। उसके बाद दैत्यगुरु शुक्राचार्य के आदेशानुसार दैत्यों ने अमृत को वापस लेने के लिए जयंत का पीछा किया और घोर परिश्रम के बाद उन्होंने बीच रास्ते में ही जयंत को पकड़ा। तत्पश्चात अमृत कलश पर अधिकार जमाने के लिए देव-दानवों में बारह दिन तक अविराम युद्ध होता रहा। इस परस्पर मारकाट के दौरान पृथ्वी के चार स्थानों (प्रयाग, हरिद्वार, उज्जैन, नासिक) पर कलश से अमृत बूँदें गिरी थीं। उस समय चंद्रमा ने घट से प्रस्रवण होने से, सूर्य ने घट फूटने से, गुरु ने दैत्यों के अपहरण से एवं शनि ने देवेन्द्र के भय से घट की रक्षा की। कलह शांत करने के लिए भगवान ने मोहिनी रूप धारण कर यथाधिकार सबको अमृत बाँटकर पिला दिया। इस प्रकार देव-दानव युद्ध का अंत किया गया। अमृत प्राप्ति के लिए देव-दानवों में परस्पर बारह दिन तक निरन्तर युद्ध हुआ था। देवताओं के बारह दिन मनुष्यों के बारह वर्ष के तुल्य होते हैं। अतएव कुम्भ भी बारह होते हैं। उनमें से चार कुंभ पृथ्वी पर होते हैं और शेष आठ कुंभ देवलोक में होते हैं, जिन्हें देवगण ही प्राप्त कर सकते हैं, मनुष्यों की वहाँ पहुँच नहीं है। जिस समय में चंद्रादिकों ने कलश की रक्षा की थी, उस समय की वर्तमान राशियों पर रक्षा करने वाले चंद्र-सूर्यादिक ग्रह जब आते हैं, उस समय कुंभ का योग होता है अर्थात जिस वर्ष, जिस राशि पर सूर्य, चंद्रमा और बृहस्पति का संयोग होता है, उसी वर्ष, उसी राशि के योग में, जहाँ-जहाँ अमृत बूँद गिरी थी, वहाँ-वहाँ कुंभ पर्व होता है।

शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.

Back To Top